काले धन पर मोदी सरकार को मिली कामयाबी: स्विस सरकार ने उठाया है ऐसा कदम कि विरोधी आज रात सो नही पाएंगे

केंद्र में बीजेपी सरकार को आये हुए 4 साल से ज्यादा का समय बीत चुका है और अब आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर तैयारियां भी जोरों-शोरों से चल रही हैं. सभी दल आने वाले लोकसभा चुनावों को लेकर काफी सतर्क हैं और मोदी सरकार को घेरने की पुरी तैयारी में लगे हुए हैं. कांग्रेस अन्य पार्टियों के साथ महागठबंधन करके मैदान में आने का काम कर रही है. मोदी सरकार ने अपने अब तक के कार्यकाल में कई बड़े फैसले लिए हैं मगर लोगों के बीच में अब तक एक ही सवाल था कि सरकार स्विस बैंक में जमा कालेधन को लेकर कोई बड़ा कदम नही उठा पाई? तो बता दें स्विस बैंक को लेकर बड़ी खबर आ रही है, जिसे जानने के बाद विरोधियों की नींद उड़ जाएगी.

Image Source-The Financial Express

जानकारी के लिए बता दें मोदी सरकार पर स्विस बैंक में जमा कालेधन को लेकर निशाना साधने वाले विपक्षियों को बड़ा झटका लग सकता है क्योंकि स्विस बैंक में जमा कालेधन को लेकर भारत सरकार को बड़ी कामयाबी मिली है. जी हाँ कालेधन के लिए सुरक्षित पनाहगार के रूप में मशहूर स्विट्जरलैंड भी अपनी छवि सुधारने में लगा हुआ है. मोदी सरकार के लगातार आग्रह के बाद अब स्विट्जरलैंड ने बड़ा कदम उठाते हुए कालेधन की जानकारी देने को तैयार हो गया है.

Image Source-India.com

दरअसल अभी तक स्विट्जरलैंड ने दो कंपनियों और तीन लोगों के बारे में ही भारतीय एजेंसियों को जानकारी देने के लिए हामी भरी है. स्विस बैंक के इस फैसले के बाद विरोधियों के मुंह पर ताला लग जायेगा और उनके खेमे में हलचल मच सकती है. भारत में इन लोगों और कंपनियों के खिलाफ पहले से ही कई जाँच चल रही हैं. बताया जा रहा है कि दोनों भारतीय कंपनियों में से एक तो भारत की सूचीबद्ध कंपनी है और कई उल्लंघनों के मामले में बाजार नियामक सेबी की निगरानी का सामना कर रही है. 

Image Source-The Financial Express

गौरतलब है कि सबसे हैरानी वाली बात ये है कि जो दूसरी कंपनी का नाम सामने आ रहा है, उसके तमिलनाडु के कुछ मशहूर नेताओं से संबंध बताये जा रहे हैं. स्विस बैंक ने  जियोडेसिक लिमिटेड से जुड़े तीन लोगों- पंकज कुमार ओंकार, किरन कुलकर्णी और प्रशांत शरद मुलेकर के मामले में सहमती जताते हुए जानकारी देने पर सहमती जताई है. कंपनी और उसके निदेशकों को अब सेबी के सह प्रवर्तन निदेशालय और मुंबई पुलिस की जांच का सामना करना पड़ सकता है. पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार की यह बड़ी जीत है.

News Source-Zeenews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *