हथिनी के 32 घंटों तक दलदल में फंसे रहने पर उसके बच्चे ने किया कुछ ऐसा,जानकर आपकी भी आंखों में आ जायेंगे आंसू

कहा जाता है कि भगवान खुद हर जगह नहीं हो सकते हैं इसलिए उन्होंने माँ को बनाया है. जब भी बच्चा किसी मुसीबत में फंसता है या उसके ऊपर कोई विपदा आती है तो वो सबसे पहले अपनी माँ को ही याद करता है. माँ अपनी जान को दांव पर लगाकर बच्चे की रक्षा करती हैं. वहीँ बच्चे भी अपनी माँ को खुश देखने के लिए हर हद पार कर देते हैं. ऐसे इंसानों के बीच ही नहीं जानवरों के बीच में भी होता है. आज हम आपको एक ऐसी ही घटना के बारे में बताने जा रहे है जिसमें एक हथिनी 32 घंटों तक कीचड़ में फंसी रही इस दौरान उसके बच्चे ने कुछ ऐसा किया जिसके बारे में जानकर आपकी भी आँखों में आंसू आ जायेंगे.

Image Source: jagran

दरअसल ये घटना कर्नाटक के कोदागाराहल्ली इलाके के येतिनहोल प्रॉजेक्ट एरिया में घटी है. बता दें कि इस एरिया में बिल्कुल भी खेती नहीं की जाती है. एक हथिनी के बाएँ पैर में कुछ दिनों पहले चोट लग गयी थी. सोमवार को जब ये हथिनी और उसका बच्चा पानी पीने के लिए जा रहे थे तो हथिनी का पैर कीचड़ में फंस गया. माँ को कीचड़ में फंसा हुआ देखकर उसका बच्चा भी वहीँ खड़ा हो गया. जब वहां से गुजर रहे लोगों ने ये नजारा देखा तो उनकी आँखों में आंसू आ गए जिसके बाद लोगों ने फ़ौरन इसकी सूचना वन विभाग को दी.

Image Source: navbharattimes

वन विभाग के अधिकारियों ने हथिनी का रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया. जिसके लिए उन्होंने मिट्टी को ढीला करने के लिए JCB मशीन मंगवाई. दुःख की बात ये रही कि JCB मशीन भी हथिनी को बाहर नहीं निकाल पाई और दलदल में फंस गयी. इसके बाद मंगलवार को प्रशिक्षित जंबो हर्षा और विक्रम को हथिनी को कीचड़ से बाहर निकलवाने के लिए बुलाया गया. लगभग शाम के 6 बजे हथिनी को बाहर निकाला गया. करीब 32 घंटे बाद हथिनी सही सलामत बाहर आई.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *